Sunday, August 13, 2017

धूमकेतु

मैं हर दिन अपने से आगे निकलता हूं
मेरे पीछे एक दुनिया छूट जाती है.
सपनों ने आदमी को धूमकेतु बना दिया है.

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...