Saturday, January 28, 2017

सिद्धांत

ज़्यादा से ज़्यादा लोगों का
ज़्यादा से ज़्यादा लाभवाला सिद्धांत
मैं नहीं मानता।
उसे नंगे रूप में देखें तो उसका अर्थ यह होता है
कि 51 फीसदी लोगों के हितों की ख़ातिर 49 फीसदी
लोगों के हितों का बलिदान किया जा सकता है।
बल्कि कर देना चाहिए।
यह एक निर्दय सिद्धांत है और मानव समाज को
इससे बहुत हानि हुई है।


'सबका ज़्यादा से ज़्यादा भला किया जाए'
यही एक मात्र सच्चा, गौरवपूर्ण और मानवीय सिद्धांत है
और इसे पूर्ण आत्मबलिदान के द्वारा ही अमल में लाया जा सकता है।

—महात्मा गांधी, चार जून उन्नीस सौ बत्तीस

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...