Tuesday, May 10, 2016

मैं चाहता हूँ

मैं चाहता हूँ
तुम जहाँ हो, वहां रहो
जैसे हो, बने रहो
लाख कोशिशें करूँ में
समझाने की
अपनी बात मनवाने की
तुम ना पलटना.

अपने इरादों से,
अपने विश्वास से
या कि किसी अविश्वास से ही.

डटे रहना
जहां हो,
जहां रहना चाहते हो.

क्यूंकि
अगर धुर उत्तर ही है
तो भी तुमने चुना है
या धुर दक्षिण ही
तो भी तुमने ही.

लेकिन कोशिश करना
कि जो चुना है
वो सही हो.

इरादे किसी की हत्या के न हों,
मेरी भी नहीं.

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...