Tuesday, October 20, 2015

तुम

तुम-1
------
तुम रात की ख़ब्त हो
दिन का सबेरा
मोहब्बत हो मेरी
या दिमाग का दही.

***

तुम-2
------
मैं अँधेरे में पैदल चल सकता हूँ
आँख बंद कर
...रास्ता गर तुम तक जाता हो.




No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...