Friday, August 28, 2015

बिस्कुट


उसे नहीं पता नक्सल का 'न'
और न ही पता हक़-बक की बातें.
उसे पता है कि
तेरह की उम्र में
उसके हाथ बन्दूक है
और उससे उसका रौब.
चाय के टपरे पर से
चार बिस्कुट और चाय उसे मुफ्त में
दी जाती है.

उस 'नक्सली' बच्चे को


बिस्कुट बहुत पसंद हैं.

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...