Wednesday, June 24, 2015

आखिरी कश


तुम वो सिगरेट हो जिसका बस आखिरी कश बचा है. ये कश भरना... तुम्हें ख़त्म करना है. लबों से दूर करना है... और कश न भरना तुम्हें जलते छोड़ देना है... किसी अधूरी कहानी की तरह. वो कश है जिसे भर लूँ तो दूर जाऊं और न भरूं तो तुम्हें अधूरा छोड़ जाऊं. तुम मेरी सिगरेट और उसका आखिरी कश....

कश न भरना - खुद को प्यासा छोड़ देना... कश भरना - खुद अधूरा होना....


No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...