Sunday, March 29, 2015

सज़ा – The Punishment

यह किस्सा ईरान का है. खुसरो प्रथम के नाम से ईरान का शासक बनने से बहुत पहले खुसरो एक गुरुकुल में रहता था और उसके गुरु उसे समस्त शास्त्र और विद्या में पारंगत करने के लिए प्रतिबद्ध थे.
एक दिन खुसरो के गुरु ने अकारण ही उसे कठोर शारीरिक दंड दे दिया. कई वर्ष बाद जब खुसरो राजगद्दी पर बैठा तो उसने सबसे पहले अपने गुरु को महल में बुलवाया और पूछा कि उन्होंने सालों पहले किस अपराध के लिए उसे कठोर दंड दिया था.
“आपने मुझे अकारण ही कठोर दंड क्यों दिया? आप भलीभांति जानते थे कि मैंने कोई भी गलती या अपराध नहीं किया था”.
“जब मैंने तुम्हारी बुद्धिमता देखी तब में यह जान गया कि एक-न-एक दिन तुम अपने पिता के साम्राज्य के उत्तराधिकारी अवश्य बनोगे,” गुरु ने कहा.
8361471571_848395c3f9_z“तब मैंने यह निश्चय किया कि तुम्हें इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि किसी व्यक्ति के साथ किया गया अन्याय उसके हृदय को आजीवन मथता रहता है. मैं आशा करता हूं कि तुम किसी भी व्यक्ति को बिना किसी कारण के कभी प्रताड़ित नहीं करोगे.”
* * * * *
When he was young, Cosroes (later on Cosroes I) had a master who managed to make him an outstanding student in all the subjects he learned.
One afternoon, for no apparent reason, the master punished him very severely.
Years later, Cosroes succeeded to the throne. One of the first measures he took was to send for his childhood master and demand an explanation for the injustice he had committed.
“Why did you punish me? You know I did not deserve it”
“When I saw your intelligence, I realized right away that you would inherit your father’s throne,” answered the master.
“And so I decided to show you how injustice is capable of marking a man for the rest of his life. I hope that you will never chastise anyone without reason.”

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...