Wednesday, January 14, 2015

शाम



छत से दिखता है सूरज
साइकल पे एक बूढ़ा
सड़क पे झड़े पत्ते
मोटे इवनिंग वॉकर्स

और बादलों में तुम्हारा चेहरा.

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...