Saturday, May 4, 2013

Three Noticed Days.





जनवरी 20, 2013, Pune Maharashtra ____


               'प्रदेश  को विकास की ज़रूरत है, लेकिन ये तब तक नहीं होगा जब तक बिहार, उ.प्र. के लोग यहाँ आते रहेंगे.' मेरे सीनियर हैं, पढ़े-लिखे इंजिनियर और कुल नौ साल के करियर में छ: साल यू. एस. ए. में रहे हैं.

                 मैं उनके कॉलेज का नाम पूछ लेता हूँ. वो बड़े गर्व से एक बड़े से इंस्टिट्यूट का नाम बताते हैं. मुझे उनके इस गर्व पे तरस आता है. शायद पढ़ा-लिखा होना और अच्छे कॉलेज से पढना आपके  अक्लमंद होने की निशानी नहीं है. मुझे एसे पढ़े-लिखों से अच्छे अपने गाँव के अनपढ़ पर सीधे-सच्चे लोग ज्यादा अच्छे लगते हैं!

---***---

अप्रैल 21, 2013, Mysore Karnataka ____


         मैं उसके साथ मंदिर गया था, ये मंदिर हमारे यहाँ के मंदिरों से अलग है. देश में हर दो सौ गज़ पे बोली बदलती है तो आस्था भी और पूजा के तरीके भी. फिर देश अपना है, तभी तो घर से 2000 KM दूर भी अपनापन लगता है. मैं आदतन 'मंगलाष्टक' पढने लगता हूँ........ "देखो ये दो-दो लोग किस तरह से भगवान की मूर्ति साफ़ कर रहे हैं. बाहर कोई गिरा पड़ा होता तो उठाते भी नहीं!" वो मूर्ति साफ़ करते पुजारियों को देख बोलती है.

                       मैं उसकी तरफ देखता हूँ, उसके चेहरे पर उन पुजारियों से ज्यादा तेज़ था.

---***----

Today, Mysore Karnataka ____


              कुछ लिखना तो चाहता हूँ तुमपर भी, लेकिन मेरी सबसे अच्छी दोस्त ने कहा है कि उसे नहीं लगता की कभी तुमने मुझसे प्यार किया था..... मुझे भी लगने लगा है की शायद वो सही है.

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...