Wednesday, August 1, 2012

Triveni: हिस्सा


दिन सारा आफताब खा गया,
तेरी रात चाँदनी ने चुरा ली.

मैं ज़िन्दगी का हिस्सा नहीं रहा अब!

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...