Friday, November 18, 2011

The Busy-Man's Show

ONE GAZAL


एक गुलाम देश का सिरमोर बादशाह थोडा मजबूर हो सकता है, थोड़ा अदूरदर्शी हो सकता है, लेकिन जिसकी बजुयों में बाबर का खून दोड़ता हो वो बुजदिल नहीं हो सकता.....और जो अकबर का वंशज हो वो फनकार न हो एसा नहीं हो सकता......फिलहाल इक उजड़ी सल्तनत के उजड़े बादशाह अबू ज़फर सिराजुद्दीन मुहम्मद बहादुर शाह ज़फर उर्फ़ Bahadur Shah Zafar की ये ग़ज़ल.


लगता नहीं है जी मेरा उजड़े दयार में
किसकी बनी है आलम-ए-नापायेदार में

बुलबुल को पासबाँ से न सैयाद से गिला
क़िस्मत में क़ैद लिखी थी फ़स्ल-ए-बहार में

इन हसरतों से कह दो कहीं और जा बसें
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार में

इक शाख़-ए-गुल पे बैठ के बुलबुल है शादमाँ
काँटे बिछा दिये हैं दिल-ए-लालाज़ार में

उम्र-ए-दराज़ माँगके लाए थे चार दिन
दो आरज़ू में कट गए, दो इन्तज़ार में

दिन ज़िन्दगी के ख़त्म हुए शाम हो गई
फैला के पाँव सोएँगे कुंज-ए-मज़ार में

कितना है बदनसीब “ज़फ़र″ दफ़्न के लिए
दो गज़ ज़मीन भी न मिली कू-ए-यार में.



ज़फर को जब भी पढता हूँ, ये बरवस ही मुंह पे आ जाता है.


दो पल हसरती हो सोचता हूँ मैं,
की छू लूं तुझे भी वक़्त रोककर....
पर हसरतें रंगीन नकाब पहन,
बस हसरती ही रह गईं...
वक़्त के तकाज़े में आरजू बह गई.
ख्वाबों में घुली तेरी खुशबू रह गई.


ONE QOUTE


Life is like riding a bicycle. To keep your balance you must keep moving.


---Albert Einstein 



ONE PIC

my last day in college....see, i have camera in my hand.....
 how much cheerful we were..... :)
missing you all.....



SOMETHING VERY CREATIVE


i know, if you are techno-savvy or from technical field, you definitely watched is hundred times....
but still watch once again, coz in aug-2012 (ya, before dooms day, so keep smiling) you can buy such products......:)






and at last.......
I am really sorry that im not frequent on my page but ads you know i am busy with The gold Class Training :) so, ts not by choice.
but thanks for your support and hits on TCM.


love you all....
have a good time. take care.
.........and be purple^. :) :)


^ Here purple represents for middle-way 
not a support for LGBT. :P                                                                                                          
                                                                                                                ~V!Vs

2 comments:

दिगम्बर नासवा said...

ये गज़ल तो लाजवाब कृति है बहादुर शाह की ....

Vipin said...

jai ho........

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...